उड़ान पर आप सभी का बहुत बहुत स्वागत है..ज़िंदगी का जंग जीतना है तो हौसला कायम रखिए..विश्वास करें सफलता आपके कदम चूमेगी..

Thursday, August 13, 2015

क्या आपके इलाके में डायन है ?

आज भी भारत में डायन जिंदा हैं....पहले बिजली नहीं था अंधेरा था 

इसलिए डायने होती थी...उस समय समय बिताने के लिए बतकही के 

अलावा कुछ और नहीं होता था इसलिए डायने होती थी..और भी 

तमाम वजहों से डायन होती थी...लेकिन जब अब जहां बिजली नहीं है 

वहां भी टीवी देखी जाती है तो बड़ी हैरत होती है कि आखिर तमाम 

तरह की दिन भर की मसालेदार खबरें,धारावाहिक होने के बावजूद 

कहां वक्त है कि डायन पैदा हो जाए....ये सब मुझे इसलिए कहना 

पड़ रहा है कि झारखंड के रांची के मांडर इलाके के कनीजिया गांव में 

एक दो नहीं बल्कि पांच-पांच डायने मिली हैं..वो भी जिंदा..ऐसे में 

सभी को अपने बच्चों और परिवार वालों का ख्याल रखना है...इसलिए 

गांववालों ने लाठी-डंडों से पीटकर पांचों को मार डाला...लेकिन हैरत 

की बात है कि जानी सुनी बातों के मुताबिक एक ही डायन पूरे गांव 

को खा जाने के लिए काफी होती है..पांचों ने किसी को खाया नहीं 

बल्कि सिर्फ लाठी-डंडों से ही मर भी गई...गोली-बंदूक..तांत्रिक किसी 

की जरूरत नहीं पड़ी...

ये गांव कोई बहुत सुदूर इलाके में भी नहीं है..बल्कि प्रदेश की 

राजधानी रांची से मात्र 20 किलोमीटर दूर है..मिली जानकारी के 

मुताबिक इन सभी डायनों की उम्र 32 से 50 साल के बीच है..अच्छा 

गांववालों ने उन्हें सिर्फ पीट-पीट कर मारा ही नहीं बल्कि उनके शवों 

को (शायद डायनों के शव भी होते होंगे या नहीं जो भी हो..) बोरे में 

भरकर गांव के बाहर फेंक दिया...फिर भी इन डायनों ने कुछ नहीं 

किया...क्या डायनें इंसानों से अधिक संवेदनशील या नख विहीन हो 

चुकी हैं...कहते हैं भूत-पिशाच के कैटेगरी की ही होती हैं डायने..इनके 

पास अपार शक्ति होती है..बावजूद इसके किसी गांववाले को खरोंच 

तक नहीं आई..इनमें गजब की ताकत होती है..नाराज यानि गुस्सा 

आने पर वह एक साथ कई लोगों को पछाड़ सकती हैं...लेकिन पांच-

पांच डायने इन गांववालों को बाल बांका भी नहीं कर सकी...इसका 

साफ मतलब ये निकाल लें कि तथाकथित सभ्य इंसान ज्यादा खूंखार 

हो चुका है..बनिस्पत डायनों के..हाय रे..मुझे तो अब इन इंसानों से 

डर लगने लगा है..इतना कुछ हो रहा था लेकिन किसी भी डायन ने 

लाल आंखे तरेरते हुए हवा में उड़ने की कोशिश नहीं की..औऱ ना ही 

किसी बच्चे तक को अपनी लंबी-लंबी नखों से चीरा....ना ही उनके मुंह 

में इंसानी खून दिखाई दिया..बल्कि खुद ही इस बुरी तरह घायल हो 

गई कि सिर्फ मुंह और सिर ही नहीं बल्कि शरीर के हर उस जगह से 

खून की फौहारे निकलने लगी जहां जहां लाठी पड़ी..हाय रे कनीजिया 

गांव के नौनिहालों वीरों जवानों तुम तो डायनों से अधिक खतरनाक 

निकले..आखिर तुम लोगों ने आज के आधुनिक जमाने में वो कर 

दिखाया जो शायद पुराने जमाने के अंधविश्वास से जकड़े समाज के 

लोग नहीं कर पाएं थे....इस गांव के सभी वीरों का ना सिर्फ सम्मान 

होना चाहिए बल्कि डायन भूत प्रेत पिशाच से पीड़ित हर उस जगह 

भेजने के लिए स्वात टीम की तर्ज पर इनका एक टॉस्क फोर्स बना 

देना चाहिए....देखिएगा हमारा दावा है कि न सिर्फ भारत से भूत 

पिशाच डायन का नाश होगा बल्कि विदेशों में भी इनकी सेवा ली 

जाएगी...

ये पांचों डायने मर चुकी है बावजूद इसके डर इतना अधिक है कि 

पुलिस को शव भी कब्जे में लेने का विरोध किया गया...और तो और 

गांव के कब्रगाह में उन्हें दफनाने का भी विरोध किया है..

अब जरा इस तथ्य पर गौर फरमा लें कि आखिर इन गांव वालों को 

कैसे पता चल गया कि उनके गांव में डायनों ने डेरा डाल लिया 

है...हुआ कुछ यूं कि कुछ दिन पहले गांव में दो तीन अधेड़ उम्र के 

लोगों की अज्ञात वजह से मौत हो गई थी...इसे माना गया कि डायनों 

की वजह से मौत हुई है..इतना ही नहीं डायनों के पड़ोस में रहने वाले 

एक युवक की पीलिया से मौत हो गई..बस क्या था...पहले एक डायन 

को पीटने से शुरु हुआ मामला चार और डायनों तक जा पहुंचा...डायनें 

बेचारी कुछ समझ पाती इससे पहले ही पांचों को डायनों को गांव के 

ही रणबांकुरों ने मार डाला...मारने वालों में कई इन्हें दीदी..भाभी और 

चाची भी कहते थे...अचानक पांचों डायन बन गई और प्रकोप फैलाने 

लगी तो गांववालों का फर्ज बनता था कि इनसे गांव को मुक्ति 

दिलाई जाए....

इतनी बड़ी घटना हो गई और जरा टीवी वालों को देखो...यूं तो हर 

छोटी बड़ी बात पर लाल-लाल गोले दिखाकर चिल्ला चिल्ला कर 

दिखाएंगे...लेकिन रांची के कनीजिया गांव वालों की इतनी बड़ी बहदुरी 

दिखाने की जहमत न की...मुझे लगता है आजकल साध्वी राधे मां के 

पुण्य प्रताप का दोहन करने में जुटी है मीडिया...अरे वहां थोड़ी 

लाली—चमकीली ज्यादा है ना....इसलिए इन वीरों की गाथा नहीं दिखा 

पाई....लेकिन घबराने की कोई बात नहीं..ये दल जल्द ही कुछ और 

जगहों पर धावा बोलने वाला है..जैसे ही कोई नई डायन हाथ लगी..तो 

कसम से देर नहीं लगेगी...सबको बुला लेंगे...फिर देखना हमारी ताकत 

के आगे कैसे घुटने टेकती हैं ये डायनें....

No comments:

Post a Comment